Recent Posts

Recent Posts

Maa Teri Tasveer मा तेरी तस्वीर- Maa Durga Bhajan By Saurabh Madhukar

Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,

Lyrics: मा तेरी तस्वीर

मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,

जाने कब आ जाए मैया आँगन रोज बुहारे,
मेरे इस छ्होटे से घर का कोना कोना सावारे,
जाने कब आ जाए मैया आँगन रोज बुहारे,
मेरे इस छ्होटे से घर का कोना कोना सावारे,
विस्वास है मैया आएगी, मुझे आश् है मैया आएगी,
जिस दिन मा नही आती हम जी भर कर रोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,

अपना पं हो अँखियो मेी होंठो पे मुस्कान हो,
ऐसे मिलना जैसे की मा जनमो की पहचान हो,
अपना पं हो अँखियो मेी होंठो पे मुस्कान हो,
ऐसे मिलना जैसे की मा जनमो की पहचान हो,
एकबार तो कह दे ओह मैया मुझे लाल तो कह दे ओह मैया,
इसके खातिर अंखिया मसल मसल कर रोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,

इक दिन आइसै नींद खुले जब मा का दीदार हो,
बाँवरी फिर हो जाए यह अंखिया बेकार हो,
इक दिन आइसै नींद खुले जब मा का दीदार हो,
बाँवरी फिर हो जाए यह अंखिया बेकार हो,
पुच्छे मेरा आँगन ओह मैया, कब होगा दर्शन ओह मैया,
बस इस दिन के खातिर हम तो दिन भर रोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,

मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
मा तेरी तस्वीर सिरहाने रख कर सोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
यही सोचकर अपने दोनो नैन भिगोते है,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,
कभी तो तस्वीर से निकलोगी, कभी तो मेरी मैया पिघलगी,

Maa Teri Tasveer- Maa Durga Bhajan By Saurabh Madhukar

Lyrics: Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai

Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,

Jaane kab aa jaye maiya aangan roj buhare,
Mere is chhote se ghar ka kona kona sawaare,
Jane kab aa jaye maiya aangan roj buhare,
Mere is chhote se ghar ka kona kona sawaare,
Viswas hai maiya aayegi, Mujhe aash hai maiya aayegi,
Jis din maa nahi aati ham jee bhar kar rote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,

Apna pan ho ankhiyo mei hontho pe muskan ho,
Aise milna jaise ki maa janamo ki pehchan ho,
Apna pan ho ankhiyo mei hontho pe muskan ho,
Aise milna jaise ki maa janamo ki pehchan ho,
Ekbaar toh keh de oh maiya mujhe laal toh keh de oh maiya,
Iske khatir ankhiya masal masal kar rote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,

Ik din aisai nind khule jab maa ka didar ho,
Banwari fir ho jaye yeh ankhiya bekar ho,
Ik din aisai nind khule jab maa ka didar ho,
Banwari fir ho jaye yeh ankhiya bekar ho,
Puchhe mera aangan oh maiya, kab hoga darshan oh maiya,
Bas is din ke khatir hum to din bhar rote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,

Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Maa teri tasveer sirhane rakh kar sote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Yehi sochkar apne dono nain bhigote hai,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,
Kabhi to tasveer se niklogi, kabhi toh meri maiya pighlogi,